Business is booming.

शनि की पूजा कैसे करें

0 659

शनि की पूजा कैसे करें, शनि देव की पूजा विधि, शनि की पूजा, शनि की पूजा करते समय इन बातो का ध्यान रखें, शनिवार के दिन ऐसे करे शनि की पूजा, shani ki puja kaise karen 

शनि का प्रभाव यदि किसी जातक की कुंडली पर होता है तो इसका प्रभाव बुरा ही होता है यह बिल्कुल सही नहीं है। क्योंकि शनि भी कर्म के अनुसार ही फल देते हैं जैसे की यदि कोई व्यक्ति दान पुण्य करता है, लोगो की भलाई करता है, व्यवहार अच्छा रखता है, किसी का दिल नहीं दुखाता आदि। तो ऐसे व्यक्ति पर शनि की कृपा बरसती है, लेकिन यदि कोई व्यक्ति जान बूझकर गलत काम करता है तो शनि का बुरा प्रभाव भी उस व्यक्ति पर पड़ता है, इसके कारण उसकी सफलता के सभी मार्ग तक बंद हो जाते है। शनि के हर बात को जानने के बाद फल देने के कारण ही इसे न्याय का देवता भी माना जाता है।

ऐसे में हर कोई चाहता है की उसकी राशि पर शनि की कृपा ही हो, किसी भी तरह का बुरा प्रभाव न पड़े। इसके लिए लोग शनि की पूजा करते हैं, व्रत आदि रखते है। और यदि कोई व्यक्ति पूरे मन और श्रद्धा के साथ शनि की पूजा करता है तो इससे ग्रहो की दशा सुधरती है, सफलता के योग बनते हैं, शनि की असीम कृपा व्यक्ति पर बनी रहती है, आदि। ऐसे में बहुत जरुरी होता है की शनि की पूजा पूरे मन के साथ और पूरी श्रद्धा के साथ की जाए। तो लीजिये आज हम आपको बताने का रहे हैं की शनि की कृपा पाने के लिए शनि की पूजा कैसे करनी चाहिए।

  • शनिवार के दिन अपने घर के आस पास जो भी शनि देव का मंदिर है, उसमे जाकर सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए। दिया जलाते समय ध्यान रखें की आप दिया शनि की शिला के सामने जलाएं न की मंदिर में बनी उनकी मूर्ति के सामने।
  • शनि देव को काले तिल, काली दाल, काला कपडा, सरसों का तेल, लोहे की चीज आदि भी अर्पित करें। साथ ही इस दिन इन चीजों का दान करें इससे भी शनि प्रसन्न होते हैं।
  • यदि आपके घर के आस पास कोई शनि मंदिर नहीं है तो पीपल के पेड़ के पास जाकर उसके सामने सरसों के तेल का दिया जलाकर शनि की उपासना करें।
  • दिया जलाने के बाद शनि चालीसा व् शनि मन्त्र का जाप करें।
  • शनि देव की पूजा करने के बाद हनुमान जी की भी पूजा करें, और उनकी मूर्ति पर सिन्दूर लगाएं और केला अर्पित करें, शनि पूजा के साथ हनुमान जी की पूजा का भी बहुत अधिक महत्व होता है।
  • उसके बाद ॐ प्रां प्रीं प्रौं स: शनैश्चराय नम: शनि मन्त्र का उच्चारण करते रहें।

तो यह हैं कुछ बातें जिनका ध्यान शनि देव की पूजा करते समय रखना चाहिए, और हर शनिवार इसी तरह शनि की पूजा करने से शनि को प्रसन्न करने में मदद मिलती है।