Business is booming.

निर्जला एकादशी 2018, निर्जला एकादशी का महत्व और व्रत पारण का समय

निर्जला एकादशी व्रत 23 जून 2018, Nirjala Ekadashi kab hai, Nirjala Gyaras 2018 in hindi, nirjala ekadashi 2018 in hindi, nirjala ekadashi 2018 date, nirjala ekadashi daan, nirjala ekadashi ka mahatva, nirjala ekadashi ke upay, निर्जला एकादशी व्रत 2018, निर्जला एकादशी 2018, निर्जला एकादशी का महत्व और व्रत पारण का समय

0 1,748

Nirjala Ekadashi Kab Hai 2018 Me :- हिन्दू धर्म में एकादशी व्रत को बहुत लाभकारी और पुण्यकारी माना जाता है। पुराणों के अनुसार एकादशी का व्रत करने से मनुष्य को पुण्य की प्राप्ति होती है। इसीलिए भक्तगण पुरे साल भर श्रद्धा के साथ एकादशी का व्रत रखते है।

निर्जला एकादाशी का महत्व

Table of Contents

हिन्दू पंचांग के अनुसार सालभर में कुल 24 एकादशियां आती है लेकिन जिस साल अधिकमास या मलमास आता है उस साल यह 26 हो जाती है। सालभर की सभी एकादशियों में भगवान विष्णु का पूजन किया जाता है और बहुत से लोग इस दिन उपवास भी रखते है। लेकिन साल की सभी एकादशियों में निर्जला एकादशी को सबसे अधिक महत्वपूर्ण और लाभकारी माना जाता है।

इस एकादशी का व्रत बिना पानी के रखा जाता है। इसलिए इसे निर्जला एकादशी कहा जाता है अर्थात बिना जल के। निर्जला एकादशी के उपवास में व्रती किसी भी प्रकार का भोजन या तरल ग्रहण नहीं करता। इस व्रत के नियम बहुत कठोर होते है इलसी निर्जला एकादशी व्रत को सबसे मुशिकल माना जाता है। इस व्रत में व्रती केवल भोजन ही नहीं बल्कि पानी भी नहीं ग्रहण करते।

निर्जला एकादशी व्रत 23 जून 2018

निर्जला एकादशी व्रत के फायदे

माना जाता है जो लोग सभी 24 एकादशियों का व्रत करने में सक्षम नहीं होते वे केवल निर्जला एकादशी का व्रत करते है। माना जाता है साल भर की सभी 24 एकादशियों के व्रत का फल केवल एक निर्जला एकादशी व्रत करने से मिल जाता है। इसीलिए यह व्रत बहुत कठिन होता है।

निर्जला एकादशी कब मनाई जाती है?

भीम एकादशी / निर्जला एकादशी का व्रत ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को किया जाता है। अंग्रेजी कैलेंडर के हिसाब से निर्जला एकादशी मई या जून के महीने में आती है। सामान्य तौर पर यह निर्जला एकादशी का व्रत गंगा दशहरा के अगले दिन पड़ता है। लेकिन कई बार गंगा दशहरा और निर्जला एकादशी एक ही दिन पड़ जाती है।

2018 Nirjala Ekadashi Date and Time

निर्जला एकादशी 2018

2018 में निर्जला एकादशी व्रत 23 जून 2018, शनिवार को है।

निर्जला एकादशी व्रत का पारण करने का समय

निर्जला एकादशी व्रत का पारण 24 जून 2018, रविवार को 13:46 से 16:32 बजे तक किया जाएगा।

व्रत पारण तिथि के दिन हरी वासर समाप्त होने का समय 10:08 बजे है।

एकादशी तिथि का प्रारंभ 23 जून 2018 को 03:19 बजे से होगा।

एकादशी तिथि का समापन 24 जून 2018 को 03:52 बजे होगा।

निर्जला एकादशी व्रत नियम :

  • निर्जला एकादशी व्रत ज्येष्ठ में किया जाता है जब भयंकर गर्मी पड़ती है। और निर्जला एकादशी व्रत में पानी भी नहीं पीया जाता। इसलिए यह व्रत बहुत मुश्किल माना जाता है।
  • भीम एकादशी / निर्जला एकादशी का व्रत पूरी तरह निराहार और निर्जला रखा जाता है। इस व्रत में कुछ भी खाया पीया (यहाँ तक की पानी भी पीया) नहीं जाता। इसीलिए यह व्रत बहुत कठिन होता है।
  • निर्जला एकादशी व्रत का पारण अगले दिन द्वादशी तिथि को सूर्योदय के पश्चात् किया जाता है। इसलिए इस व्रत की अवधि काफी लंबी होती है।
  • इस व्रत को 24 घंटों से भी अधिक समय के लिए रखा जाता है यानी यह व्रत एकादशी तिथि के प्रारंभ होने के साथ ही प्रारंभ होता है और द्वादशी तिथि के प्रारंभ होने पर व् एकादशी तिथि के समाप्त होने पर ही समाप्त होता है।

निर्जला एकादशी 2018, निर्जला एकादशी का महत्व और व्रत पारण का समय, nirjala ekadashi kab hai, Nirjala Gyaras 2018 in hindi, nirjala ekadashi 2018 in hindi, nirjala ekadashi 2018 date, nirjala ekadashi daan, nirjala ekadashi ka mahatva, nirjala ekadashi ke upay, निर्जला एकादशी व्रत 2018