Business is booming.

मेष संक्रांति 2018, संक्रांति डेट टाइम और पुण्यकाल का शुभ समय

अप्रैल 2018 मेष संक्रांति समय और पूजा विधि, Mesha Sankaranti Date 2018, मेष संक्रांति 2018, संक्रांति डेट टाइम और पुण्यकाल का शुभ समय, मेष संक्रांति पूजा, Punyakaal shubh muhurt mesh sankranti, मेष संक्रांति 2018 महापुण्यकाल का सही समय, Mesh sankranti timing, संक्रांति काल कब है अप्रैल २०१८

0 228

मेष संक्रांति हिन्दू धर्म में मनाए जाने वाले महत्वपूर्ण धार्मिक पर्वों में से एक है जिसे हिन्दू नववर्ष के पहले दिन मनाया जाता है। जॉर्जियन कैलेंडर के मुताबिक मेष संक्रांति अप्रैल-मई के महीने में आती है। मेष संक्रांति वह समय होता है जब सूर्य मीन राशि से मेष राशि में प्रवेश करता है।

पुरे भारत में इस पर्व को अलग-अलग नामों से जाना जाता है। परंतु मुख्य रूप से इस पर्व को वैशाख आने के रूप में मनाया जाता है। इसलिए पंजाब और उससे सटे कुछ क्षेत्रों में इसे वैशाखी के नाम से भी जाना जाता है। असम ने इसे बिहू कहा जाता है।

वर्ष में कुल 12 संक्रांति आती है, और उन सभी में भगवान सूर्य के पूजन और दान-पुण्य आदि करने का विधान है। माना जाता है, संक्रांति के दिन दान आदि करने से बहुत लाभ मिलता है। संक्रांति काल से पहले और बाद की सभी दस घटियों को पूजा और दान आदि करने के लिए शुभ माना जाता है।

मेष संक्रांति के दिन की जाने वाली परंपराए :

हिन्दू धर्म में संक्रांति को बहुत ही शुभ और लाभकारी माना जाता है। इसलिए सभी इस दिन विशेष स्नान, पूजा और दान-पुण्य आदि करते है। इसके अलावा भी संक्रांति के दिन बहुत सी परंपराए की जाती है, जिनमे निम्नलिखित सम्मिलित है –

  • इस दिन भगवान शिव, हनुमान, भगवान विष्णु और माँ काली का पूजन करना अत्यंत शुभ माना जाता है।
  • संक्रांति के दिन गंगा, यमुना या गोदावरी में स्नान करना बहुत शुभ होता है।
  • बहुत से लोग, इस दिन लोगों को पाना नामक, विशेष पेय पदार्थ पिलाना शुभ मानते है।
  • ध्यान रखें, संक्रांति के दिन किये गए किसी भी कार्य से पुण्य प्राप्त करने के लिए आपको पुण्यकाल पर विचार कर लेना चाहिए।
  • इस दिन केवल सात्विक भोजन खाना चाहिए और किसी भी प्रकार की बुरी आदत से दूर रहना चाहिए।
  • बहुत से समुदायों में इस दिन विशेष मंत्रों का उच्चारण करके हवन आदि किया जाता है। जो परिवार के लिए शुभ होता है।

मेष संक्रांति 2018

2018 में मेष संक्रांति 14 अप्रैल 2018, शनिवार के दिन मनाई जाएगी।

मेष संक्रांति में दान-पुण्य का शुभ मुहूर्त

मेष संक्रांति पुण्य काल मुहूर्त = 06:00 से 12:27
मुहूर्त की अवधि = 6 घंटे 26 मिनट

मेष संक्रांति काल 08:27 मिनट पर होगा।

संक्रांति के दिन महापुण्य काल मुहूर्त = 08:03 से 08:51।
मुहूर्त की अवधि = 47 मिनट