Business is booming.

पंचक मार्च 2019 : मार्च में पंचक कब से कब तक है? Panchak March Date

0 1,662

 Panchak 2019, पंचक मार्च 2019, मार्च में पंचक कब से कब तक है, Panchak March Date, Panchak March 2019, पंचक कब है, मार्च 2019 पंचक, When Panchak will start, March 2019 Panchak Date, मार्च पंचक तिथि


Panchak March 2019

हिन्दू पंचांग के अनुसार, महीने में ऐसे 5 दिन होते हैं जिन्हे अशुभ माना जाता है। इन पांच दिनों में कोई भी शुभ कार्य करना वर्जित होता है और कोई शुभ कार्य आरंभ नहीं किया जाता। शास्त्रों में इन पांच दिनों को अशुभ बताया गया है जिन्हे पंचक कहते हैं।

पंचक क्या होता है?

पंचक, पांच नक्षत्रों के अशुभ संयोग को कहते हैं। शास्त्रों में शुभ और नए कार्यों के लिए इन पांच नक्षत्रों को अशुभ बताया गया है। भारतीय ज्योतिष शास्त्र का विस्तार से अध्ययन करने के लिए ग्रहों को पुनः 27 नक्षत्रों में बांटा गया है। इन 27 नक्षत्रों में अंतिम पांच नक्षत्र – धनिष्ठा, शतभिषा, पूर्वाभाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद और रेवती नक्षत्र के संयोग को पंचक कहा जाता है।

Panchak March Date : पंचक कब आता है?

एक महीने में 30 दिन होते है और नक्षत्र 27 होते हैं जिसके मुताबिक एक दिन एक नक्षत्र होता है। कई बार एक नक्षत्र दो दिन और दो नक्षत्र एक दिन पड़ जाते है। जब अंतिम नक्षत्र धनिष्ठा, शतभिषा, पूर्वाभाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद और रेवती आते है तो उन पांच दिनों को पंचक कहा जाता है।

पंचक में क्या न करें?

शास्त्रों के अनुसार, कुछ विशेष कार्य हैं जिन्हे पंचक के दौरान नहीं करना चाहिए। वे कार्य निम्नलिखित है –

  • पंचक के दौरान लकड़ी, तेल, इंधन, छप्पर आदि से जुड़े काम और संग्रह नहीं करना चाहिए।
  • पंचक में नई दुल्हन को लाना और विदा करना वर्जित माना जाता है।
  • पलंग, खटिया, कुर्सी और सोफे का काम नहीं करवाना चाहिए।
  • इस समय में दक्षिण दिशा में यात्रा करना वर्जित माना जाता है।
  • इस समय में मकान की ढलाई नहीं करनी चाहिए। – Panchak March date 2019
  • पंचक के दौरान घर में कोई विशेष पूजा पाठ और शुभ कार्य नहीं करने चाहिए।
  • इस समय में किसी भी तरह का नया काम, जमीन, जायदाद, वाहन आदि की खरीद बेच नहीं करनी चाहिए।

2019 मार्च में पंचक कब से कब तक है?

मार्च 2019 पंचक काल का आरंभ 5 मार्च 2019 (मंगलवार) रात्रि 01:45 बजे।
मार्च 2019 पंचक काल की समाप्ति 10 मार्च 2019 (रविवार) रात्रि 01:19 बजे।

यदि पंचक काल में कोई कार्य करना अत्यंत आवश्यक हो तो उसे धनिष्ठा नक्षत्र के अंत, शतभिषा नक्षत्र के मध्य, पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र के प्रारंभ और उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र के अंत की पांच घडी को छोड़कर बाकी समय में शुभ कार्य किये जा सकते है। परन्तु ध्यान रहे, इस नक्षत्र में शुभ कार्य करते समय खास सावधानी करनी चाहिए।

पंचक 2019 का पूर्ण विवरण

माह पंचक प्रारंभ पंचक समाप्त
जनवरी 2019 पंचक
9 जनवरी 2019 14 जनवरी 2019
फरवरी 2019 पंचक
5 फरवरी 2019 10 फरवरी 2019
मार्च 2019 पंचक
5 मार्च 2019 10 मार्च 2019
अप्रैल 2019 पंचक
1 अप्रैल 2019 6 अप्रैल 2019
अप्रैल – मई 2019 पंचक
28 अप्रैल 2019 3 मई 2019
मई 2019 पंचक
25 मई 2019 30 मई 2019
जून 2019 पंचक
22 जून 2019 27 जून 2019
जुलाई 2019 पंचक
19 जुलाई 2019 24 जुलाई 2019
अगस्त 2019 पंचक
15 अगस्त 2019 20 अगस्त 2019
सितंबर 2019 पंचक
11 सितंबर 2019 16 सितंबर 2019
अक्टूबर 2019 पंचक
9 अक्टूबर 2019 14 अक्टूबर 2019
नवंबर 2019 पंचक
5 नवंबर 2019 10 नवंबर 2019
दिसंबर 2019 पंचक
2 दिसंबर 2019 7 दिसंबर 2019