Business is booming.

चैत्र नवरात्रि 2019, नवरात्रि अप्रैल डेट 2019 पूजा विधि और महत्व

0 6,342

चैत्र नवरात्रि 2019 डेट, April Navratri 2019, नवरात्रि अप्रैल डेट 2019 पूजा विधि और महत्व, Navratri Date Calendar 2019, Chaitra Navratri 2019, Navratri April 2019, Navratri Calendar 2019, नवरात्रि कलश स्थापना मुहूर्त, चैत्र कलश स्थापना, कलश स्थापना 2019 मुहूर्त, कलश स्थापना चैत्र नवरात्रि


April Navratri 2019

नवरात्रि हिन्दू धर्म के महत्वपूर्ण पर्वों में से एक है जिसे सभी बड़ी श्रद्धा भक्ति के साथ मनाते हैं। नवरात्रि का पर्व पुरे नौ दिनों तक चलता है जिसमे माँ दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों का पूजन किया जाता है। नवरात्रि का पावन पर्व वर्ष में चार बार – चैत्र, आषाढ़, आश्विन और माघ के महीने में मनाया जाता है। पर इनमे से केवल चैत्र और आश्विन की नवरात्रि बड़े स्तर पर मनाई जाती है। चैत्र और आश्विन में से भी आश्विन की शारदीय नवरात्रि बहुत खास होती है। इसलिए इसे महानवरात्र भी कहा जाता है।

चैत्र नवरात्रि में पूजा

हिन्दू नववर्ष शुरू होने के साथ चैत्र के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से राम नवमी तक चैत्र नवरात्रि मनाई जाती है। हिन्दू नववर्ष प्रारंभ होने के साथ-साथ ये नवरात्रि का पहला दिन भी होता है इसलिए चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को बहुत खास माना जाता है। इस दिन अबूझ मुहूर्त भी होता है। अबूझ मुहूर्त के दिन कोई भी मांगलिक कार्य बिना पंचांग देखे संपन्न किये जा सकते हैं। परंतु विवाह और उससे जुड़े कार्यों के लिए पंचांग में दिए मुहूर्त ही चुनने चाहिए।

चैत्र नवरात्रि कलश स्थापना

नवरात्रि का आरंभ प्रतिपदा में कलश स्थापना से होता है। दुर्गा पूजन के लिए कलश स्थापना करना अनिवार्य होता है। माना जाता है, नवरात्रि कलश स्थापना बिना पूजा पूर्ण नहीं मानी जाती। इसलिए कलश स्थापना सदैव शुभ और उचित मुहूर्त में ही करनी चाहिए।

गलत समय पर या गलत मुहूर्त में कलश स्थापना करना शुभ नहीं होता। इसके अलावा रात्रि के समय और अमावस्या में भी कलश स्थापना शुभ नहीं मानी जाती। नवरात्रि कलश स्थापना के लिए सबसे शुभ मुहूर्त तब होता है जब प्रतिपदा तिथि प्रबल हो। अगर किसी कारणवश कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त ना मिले तो उस दिन के अभिजीत मुहूर्त में कलश स्थापना की जा सकती है।

शास्त्रों के अनुसार, कलश स्थापना दिन के मध्याह्न में जब प्रतिपदा तिथि प्रबल हो तब करना चाहिए। चैत्र नवरात्रि कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त नीचे दिए गया है।

(*अलग-अलग शहरों के हिसाब से यह मुहूर्त आगे पीछे हो सकता है।)

नवरात्रि कलश स्थापना 2019 मुहूर्त

चैत्र नवरात्रि 2019, 6 अप्रैल 2019, शनिवार से शुरू है।

कलश स्थापना मुहूर्त = प्रातः 06:09 से 10:19 बजे।
मुहूर्त की अवधि = 4 घंटे 9 मिनट

(*कलश स्थापना केवल प्रतिपदा तिथि में ही करें। समय ना होने पर कलश स्थापना मुहूर्त वैधृति योग के दौरान किया जा सकता है।)

प्रतिपदा तिथि आरंभ = 5 अप्रैल 2019, शुक्रवार दोपहर 02:20 बजे।
प्रतिपदा तिथि समाप्त = 6 अप्रैल 2019, शनिवार दोपहर 03:23 बजे।


चैत्र नवरात्रि 2019 डेट

Chaitra Navratri 2019 Calendar

नवरात्रि का दिन तिथि तारीख-वार पर्व
नवरात्रि का दिन 1
प्रतिपदा 6 अप्रैल 2019, शनिवार घटस्थापना, कलशस्थापना, शैलपुत्री पूजा, चंद्र दर्शन
नवरात्रि का दिन 2
द्वितीया 7 अप्रैल 2019, रविवार ब्रह्मचारिणी पूजा, सिंधारा दौज
नवरात्रि का दिन 3
तृतीया 8 अप्रैल 2019, सोमवार गौरी तीज, सौभाग्य तीज, चंद्रघंटा पूजा
नवरात्रि का दिन 4
चतुर्थी 9 अप्रैल 2019, मंगलवार कुष्मांडा पूजा, वरद विनायक चौथ, लक्ष्मी पंचमी
नवरात्रि का दिन 5
पंचमी 10 अप्रैल 2019, बुधवार नाग पूजा, स्कंदमाता पूजा, स्कन्द षष्ठी, उपंग ललिता व्रत
नवरात्रि का दिन 6
षष्ठी 11 अप्रैल 2019, गुरुवार यमुना छठ, कात्यायनी पूजा, चैती छठ
नवरात्रि का दिन 7
सप्तमी 12 अप्रैल 2019, शुक्रवार महा सप्तमी, कालरात्रि पूजा
नवरात्रि का दिन 8
अष्टमी 13 अप्रैल 2019, शनिवार दुर्गा अष्टमी, महागौरी पूजा, अन्नपूर्णा अष्टमी, संधि पूजा
नवरात्रि का दिन 9
नवमी 14 अप्रैल 2019, रविवार सिद्धिदात्री पूजा, राम नवमी, नवरात्रि पारण, नवरात्रि हवन